February 26, 2024

कांग्रेस अगर अपना स्टैंड क्लियर करेगी तो हमलोग मिलकर भाजपा को 100 सीटों पर निपटा देंगे : सीएम नीतीश

  • पूर्णिया एयरपोर्ट को बिहार से मंजूरी मिलने के बाद भी केंद्र इसके लिए कुछ नहीं कर रहा : मुख्यमंत्री

पूर्णिया/ पटना। 2024 में विपक्षी एकता को एकजुट करने के लिए बिहार में महागठबंधन की ओर से पूर्णिया में महा रैली का आयोजन किया गया। इस रैली में महागठबंधन में शामिल सभी 7 पार्टियों के प्रतिनिधि शामिल हुए। रैली के सबसे अंत में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का संबोधन हुआ। इसके पहले बिहार के उपमुख्यमंत्री समेत कई लोगों ने संबोधन करते हुए केंद्र की नीतियों का जमकर विरोध किया और 2024 में देश में महागठबंधन की जीत का दावा किया। वही इस रैली की सबसे खास बात यह रही कि इस रैली में राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव पहली बार किडनी ट्रांसप्लांट करवाने के बाद वर्चुअल माध्यम से शामिल हुए और तकरीबन 5 मिनट का संबोधन किया। अपने संबोधन में वह अपने पुराने अंदाज में नजर आए और केंद्र की नीतियों का जमकर विरोध किया। वही पूर्णिया के रंगभूमि मैदान में महागठबंधन की महारैली में सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार के विकास के लिए केंद्र ने कोई काम नहीं किया। भाजपा की तरफ से कोई काम देशहित में नहीं हो रहा है। बिहार को जितना मदद का भरोसा दिया गया, वह आज तक नहीं मिला। आठ साल में केंद्र की ओर से मात्र 59 लाख करोड़ की राशि मिली है। पूर्णिया में एयरपोर्ट सबसे पहले बनना था, लेकिन नहीं बना। एयरपोर्ट के लिए जितनी जमीन मांगी गई, हमने दिया। अमित शाह ने पूर्णिया में आकर कह दिया एयरपोर्ट चालू हो गया, लेकिन आज तक एयरपोर्ट चालू नहीं हो पाया। नीतीश कुमार ने कहा कि कांग्रेस अपना स्टैंड क्लियर करे। हम लोग एक साथ रहेंगे तो भाजपा को 2024 के चुनाव में 100 सीट भी नहीं मिल पाएगी।
देश की आजादी को नही जानने वाले दो लोग आज दिल्ली के नेता बने हुए हैं : नीतीश
रैली को संबोधित करते हुए सीएम नीतीश कुमार ने केंद्र पर करारा अटैक किया। उन्होंने कहा कि कोई काम देश के हित में नहीं कर रहे। बिहार के विकास में उन्होंने क्या किया? बीजेपी पर हमला बोलते हुए सीएम नीतीश ने कहा कि देश की आजादी को पीएम मोदी और अमित शाह नहीं जानते हैं। सीएम नीतीश कुमार ने महारैली को संबोधित करते हुए कहा कि सातों पार्टियों ने मिलकर तय किया कि पहली सभा हमलोग पूर्णिया में करेंगे। जब हम लोगों ने महागठबंधन बनाया तो दिल्ली से दो नेता हैं। एक प्रधानमंत्री मोदी हैं और गृह मंत्री अमित शाह। क्या अनुभव है इन लोगों का? क्या देश की आजादी को जानते हैं? ये लोग कोई काम नहीं करते हैं। कब्जा किए हुए हैं। एक आध बार हमलोग का छप जाता है। उनलोगों का छपते रहता है। कोई बिहार के विकास के लिए काम हुआ? यहां आकर क्या-क्या कह दिया था। आजादी की लड़ाई से इन लोगों को क्या मतलब है।
देश पर कब्जा करने वाले आज देश हित में काम नही कर रहे : मुख्यमंत्री
वही नीतीश कुमार ने अमित शाह पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि देश पर कब्जा कर लिया है। कोई भी काम देशहित में नहीं कर रहे हैं। बिहार के विकास के लिए कोई काम किया है, लेकिन यहां आकर क्या-क्या बोल दिया कि हमने ये विकास किया-वो विकास। पिछले चुनाव में इन लोगों ने बिहार के विकास के लिए मदद करने का वादा किया था, लेकिन कोई मदद नहीं किया। हम जीवन भर आप लोगों के हित के लिए काम करेंगे। मेरी कोई व्यक्तिगत इच्छा नहीं है। मेरी ख्वाहिश है कि देश आगे बढ़, इसके लिए बीजेपी को हराना होगा। बिहार में जैसे हम एकजुट है, वैसे देश में एकजुट होना होगा।
मेरे ऊपर जॉर्ज फर्नांडिस को धोखा देने का आरोप लगा, जबकि हम उनके साथ ही थे : सीएम नीतीश
मेरे बारे में कहा गया कि मैंने जॉर्ज फर्नांडिस को धोखा दिया, जबकि हम उनके साथ ही थे। शरद यादव के बारे में कहा कि मैंने उन्हें छोड़ दिया, जबकि आज उनका बेटा यहां बैठा है। उनके निधन पर भी मैं वहां गया। मैंने जॉर्ज फर्नांडिस को भी कभी नहीं छोड़ा। ये लोग बस बोलते रहते हैं।
मीडिया वालों से पूछ लीजिए, कैसे उन पर केंद्र वाला कब्जा किया हुआ है : मुख्यमंत्री
अपने संबोधन के दौरान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्र की नीतियों पर निशाना साधते हुए कहा कि आप लोग देख ना रहे हैं कि आजकल क्या हो रहा है, हमारे मीडिया के सभी बंधु यहां उपस्थित हैं उन सब से पूछ लीजिए। जितना भी मीडिया कर्मी हम लोगों का कार्यक्रम रिकॉर्ड कर रहा है क्या वह सब छप जाएगा नहीं ऐसा बिल्कुल नहीं। सब लोग कब्जा किए हुए हैं, खाली दिल्ली वाला छपता है। लेकिन हम लोगों को इन सब चीजों से मतलब नहीं हम लोग बस काम पर ध्यान देंगे और आने वाले समय में हम आपको कहना चाहते हैं कि हम सबको साथ रहना है और बात कहें अगर बिहार की तो बिहार में आप लोग देख रहे हैं कि कितना काम हुआ है। यहां हम सात पाटिया एक साथ हैं और बिहार के विकास के लिए हम लोग लगातार काम करते रहेंगे।
नीतीश के संबोधन के समय शिक्षक अभ्यर्थियों का हंगामा, सीएम बोले- चिंता मत करो, अभी बहुत बहाली करने वाले हैं
वही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जब सभा को संबोधित कर रहे थे तभी शिक्षक अभ्यर्थी नौकरी मांगने लगे। नौकरी मांगने के सवाल पर मुख्यमंत्री भड़क गे। अपना भाषण रोक कर पूछने लगे, कौन है ये सब? मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शिक्षक अभ्यर्थिय़ों पर भड़क गए। भाषण के दौरान बेरोजगार नौकरी मांग को लेकर आवाज उठा रहे थे। इसी दौरान नीतीश कुमार की नजर उन पर पड़ी। बस क्या था। अपने पीएस से पूछा। कौन है ये सब? जब उन्हें बताया गया कि ये लोग शिक्षक अभ्यर्थी हैं। बस क्या था। मुख्य़मंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि आप शिक्षक हो। यह वाला बात मत बोलो यहां पर। काहे के लिए आए हो यहां पर? आपको मालूम है कितने शिक्षकों की बहाली हुई और कितने की बहाली करने वाले हैं। कौन आप लोगों को गलत चीज बता रहा है? बड़ी संख्या में शिक्षकों की बहाली होगी, चिंता मत करो। आज जिसको जितना हम वेतन दे रहे हैं उससे भी ज्यादा बढ़ाने वाले हैं। इसलिए चिंता मत करो। हम बात कर रहे हैं सुनोगे नहीं। कुछ लोग समझा देता है कि बोलते रहो तो बोलते हो। यह गलत बात है पता ही नहीं है तुम लोगों को, इसलिए यह शब्द मत बोलो।

About Post Author

You may have missed