परिवारवाद को लेकर राजद का एनडीए पर हमला, टिकट बंटवारे की खोली पोल, सोशल मीडिया से किया हमला

  • राजद ने दिया पूरा ब्यौरा, कहा- एनडीए का मतलब बीजेपी, जेडीयू और लोजपा का परिवारवाद, कार्यकर्ता परेशान

पटना। भाजपा की ओर से लोकसभा चुनाव में परिवारवाद को प्रमुख मुद्दा बनाकर प्रतिद्वंद्वी दलों पर हमला किया जा रहा है। खासकर बिहार में राजद सुप्रीमो लालू यादव को परिवारवाद के नाम पर सबसे ज्यादा घेरा जा रहा है। लालू यादव, राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव, तेज प्रताप यादव, मीसा भारती के बाद अब रोहिणी आचार्य के सक्रिय राजनीति में आने पर भाजपा हमलावर है। रोहिणी आचार्य इस बार सारण से लोकसभा चुनाव में उतरी हैं। अब भाजपा के आरोपों का जवाब देने के लिए राजद ने मोर्चा खोल दिया है। राजद की ओर से भाजपा और एनडीए के घटक दलों से बिहार में लोकसभा चुनाव लड़ रहे उम्मदीवारों के परिवारवाद की पोल खोली गई है। राजद ने सोशल मीडिया पर लिखा है की बिहार चुनाव में मोदी के परिवार एनडीए यानि बीजेपी-जेडीयू-लोजपा का परिवारवाद सबसे अधिक कार्यकर्ता परेशान। राजद ने कई एनडीए उम्मीदवारों का पूरा ब्यौरा दिया है कि कैसे पिता के बाद उनकी संतान राजनीति में हैं। राजद ने कहा है कि एनडीए उम्मीदवारों में पटना साहिब पूर्व मंत्री जनसंघ संस्थापक सदस्य ठाकुर प्रसाद के बेटे रविशंकर प्रसाद (भाजपा), सासाराम शिवेश राम पूर्व केंद्रीय मंत्री मुन्नी लाल के बेटे (भाजपा), हाजीपुर चिराग पासवान रामविलास पासवान के बेटे (लोजपा-रा) जमुई अरुण भारती रामविलास पासवान के दामाद (लोजपा-रा), समस्तीपुर शांभवी चौधरी मंत्री अशोक चौधरी की बेटी और पूर्व मंत्री स्व महावीर चौधरी की पौत्री (लोजपा-रा) हैं। इसी तरह शिवहर लवली आनंद पूर्व सांसद कुख्यात अपराधी,  हत्यारा आनंद मोहन की पत्नी, विधायक की मम्मी (जदयू) वाल्मीकिनगर सुनील कुमार- पूर्व मंत्री वैद्यनाथ महतो के बेटे (जदयू) प चंपारण संजय जायसवाल पूर्व सांसद मदन जायसवाल के बेटे (भाजपा), मधुबनी अशोक यादव पूर्व मंत्री हुकुमदेव यादव के बेटे (भाजपा), वैशाली वीणा देवी- जेडीयू एमएलसी दिनेश सिंह की पत्नी (लोजपा-रा), सीवान- विजय लक्ष्मी कुशवाहा- पूर्व विधायक रमेश कुशवाहा की पत्नी (जदयू) औरंगाबाद सुशील कुमार सिंह पूर्व सांसद राम नरेश सिंह के बेटे (भाजपा), नवादा- विवेक ठाकुर पूर्व केंद्रीय मंत्री सीपी ठाकुर के बेटे (भाजपा) राजनैतिक परिवारों से आते हैं। एनडीए के घटक दल भले ही राजद और अन्य प्रतिद्वंद्वी दलों पर परिवार का आरोप लगाते हों लेकिन भाजपा सहित अन्य दलों में राजनैतिक परिवारों से आने वाले नेताओं की भरमार है। इसे ही बताते हुए राजद ने बताया है कि इस बार लोकसभा चुनाव में जिन्हें एनडीए ने उम्मदीवार बनाया है उनमें दर्जन से ज्यादा प्रत्याशी राजनैतिक परिवारों से आते हैं। इतना ही नहीं भाजपा के बिहार प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी के पिता शकुनी चौधरी भी राजनीति में थे। एनडीए के एक अन्य नेता जीतन राम मांझी गया से उम्मीदवार हैं। उनके बेटे भी नीतीश सरकार में मंत्री हैं जबकि अन्य रिश्तेदार भी राजनीति में हैं। ऐसे में लालू परिवार को परिवारवादी बताने के भाजपा के दावे को राजद ने भ्रामक कहा है।

About Post Author

You may have missed