October 3, 2022

PATNA : बिहार में 2 से 4 दिन देर से आयेगा मानसून, 27 मई तक केरल में आने की संभावना

पटना। बिहार में मानसून आने में अब देरी होगी। इसमें 2 से 4 दिन की देरी हो सकती है। इसका बड़ा कारण केरल में मानसून के सेट नहीं होना है। मौसम विभाग के मुताबिक अभी मानसून अभी साउथ वेस्ट अरबियन समुद्र के कुछ भाग में पहुंचा है। मौसम विभाग की माने तो मानसून के केरल तक पहुंचने में 4 दिन की देरी हो जाएगी। मौसम विभाग का पूर्वानुमान 27 मई तक मानसून के केरल में फिक्स होगा। मौसम विभाग से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि इस बार 4 दिनों की देरी मानसून के शिफ्ट होने में लग सकता है। ऐसे में बिहार में भी 2 से 4 दिनों की देरी हो सकती है। बिहार में मानसून को लेकर 13 से 15 जून के बीच का समय फिक्स है। पिछले सीजन में मानसून पूर्वानुमान के एक दिदन पहले ही बिहार में आ गया था लेकिन इस बार दो से 4 दिनों की देरी का पूर्वानुमान है। हालांकि मौसम विभाग का कहना है कि अभी मानसून का फिक्स होने का कुछ निश्चित नहीं होता है, इसमें अभी पूर्वानुमान 4 दिन देरी का है। इसमें समय थोड़ा आगे पीछे भी हो सकता है। बिहार में मानसून के देरी से आने का पूरी तरह से पूर्वानुमान है। ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की दशमी तिथि यानी 25 मई से सूर्य देव रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश कर गए हैं। इसके बाद से ही 9 दिनों के लिए नौतपा शुरू हो गया है। सूर्य के रोहिणी नक्षत्र में 8 जून तक रहने तक धरती तपती है, लेकिन इस बार मौसमी कारकों का संयोग प्रचंड गर्मी वाला नहीं बन रहा है।
अगर बारिश हुई तो मानसून में सूखा
वही ऐसी मान्यता है कि ज्येष्ठ माह में सूर्य के वृष राशि के 10 अंश से 23 अंश 40 कला तक नौतपा कहलाता है। इस दौरान तेज गर्मी रहने पर बारिश के अच्छे योग और कम तपन पर बारिश में कमी का पता चलता है। पंडित श्रीपति त्रिपाठी का कहना है कि ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष में आद्रा नक्षत्र से लेकर दस नक्षत्रों में यदि बारिश हो तो वर्षा ऋतु में इन दसों नक्षत्रों में बारिश नहीं होती, यदि इन्हीं नक्षत्रों में तीव्र गर्मी पड़े तो बारिश अच्छी होती है। चंद्रमा जब ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष में आर्द्रा से स्वाति नक्षत्र तक अपनी स्थितियों में हो एवं इसके साथ ही अधिक गर्मी पड़े, तो वह नौतपा है। रोहिणी नक्षत्र के दौरान अगर बारिश हो जाती है तो इसे रोहिणी नक्षत्र का गलना भी कहा जाता है। पटना के मौसम विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों का कहना है कि 25 मई से नौतपा शुरू हो गया है। इस दौरान सूर्य की तपिश दिखाई देगी। लेकिन नौतपा के पहले दिन ही राज्य में कई स्थानों पर तेज हवा के साथ हल्की से मध्यम बारिश हुई है।
मौसम विभाग के मुताबिक 24 घंटे के दौरान उत्तर पश्चिम भागों के अनेक स्थानों पर, दक्षिणी भागों के कुछ स्थानों पर और उत्तर मध्य एवं उत्तर पूर्व भागों के एक दो स्थानों पर हल्की से मध्यम स्तर की वर्षा दर्ज की गई। इस दौरान सर्वाधिक अधिकतम तापमान 41.4 डिग्री सेल्सियस डेहरी में रिकॉर्ड किया गया है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि नौतपा में 30 मई तक बारिश और आंधी तूफान का पूर्वानुमान है। इस दौरान अगर बारिश होती है तो नौतपा के कारण मानसून में बरसात कम होगी। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में भी बारिश को लेकर अलर्ट किया है।

About Post Author

You may have missed