December 5, 2022

PATNA : प्रदेश में शराब की तस्करी रोकने के लिए अब हैंड स्केनर मशीन से होगी वाहनों की जांच

पटना। बिहार में शराब की तस्करी रोकने के लिए मद्य निषेध विभाग ने हैंड स्कैनर मशीन मंगवाई है। इसके जरिये वाहनों के अंदर छिपाकर लाई जा रही शराब भी आसानी से पकड़ी जा सकेगी। बिहार में पहली बार गोपालगंज में यूपी-बिहार के बलथरी चेकपोस्ट के पास इस मशीन का प्रयोग किया जा रहा है। वहीं स्कैनर मशीन से मालवाहक ट्रकों की जांच पड़ताल में काफी सहूलियत मिल रही है। उत्पाद विभाग के अधिकारियों का दावा है कि इस मशीन के आने से गाड़ियों में सामान के अंदर चोरी-छिपे लाई जा रही शराब को आसानी से पकड़ा जा सकेगा। आज से यह मशीन काम करना शुरू कर दिया है। शराब की तस्करी को रोकने के लिए बलथरी चेकपोस्ट पर कैसे स्कैनिंग मशीन से जांच की जा रही।

जानिए, कैसे काम करती है स्केनिंग मशीन

यह मशीन बैट्री से चलती है। किसी भी वाहन की बंद बॉडी को स्कैन करती है। उसके बाद वाहन के अंदर सामनों को आकार के रूप में स्क्रीन पर तस्वीर दिखाती है। बोतल बंद शराब, फ्रूटी शराब को आसानी ये स्कैनिंग मशीन कैप्चर कर इंडिकेट कर देती है। इसके बाद चेकपोस्ट पर मौजूद उत्पाद टीम उन वाहनों को जब्त कर लेती है। इस प्रक्रिया में 30 से 40 सेकेंड ही लगता है। अबतक इस हैंड स्कैनिंग मशीन से एक बस में छिपाकर लाई जा रही शराब को पकड़ी गयी है।

About Post Author

You may have missed