बिहार सरकार अनुकम्पा के माध्यम से नियुक्ति के प्रति गंभीर है : शिक्षा मंत्री

पटना। बिहार प्रदेश राजद के राज्य कार्यालय चल रहे सुनवाई कार्यक्रम में आज शिक्षा मंत्री प्रो. चन्द्रशेखर तथा पिछड़ा, अतिपिछड़ा कल्याण मंत्री अनीता देवी के द्वारा जनहित तथा जनसरोकार के मुद्दे पर पार्टी नेताओं तथा कार्यकर्ताओं और आमजनों से प्राप्त लिखित जनसमस्याओं का तत्काल समाधान तथा कार्रवाई के लिए टेलीफोन तथा लिखित में संबंधित विभाग तथा विभिन्न जिला के पदाधिकारियों को निर्देशित किया। वही इस अवसर पर शिक्षा मंत्री प्रो. चन्द्रशेखर ने कहा कि राज्य भर से सैंकड़ों अनुकम्पा नियुक्ति से संबंधित प्रतिक्षारत लाभार्थी आज सुनवाई कार्यक्रम में आये। वही इन सभी का कहना था कि शिक्षक नियोजन नियमावली 2020 निरस्त हो चुकी है तथा नई शिक्षक नियुक्ति नियमावली 2023 में अनुकम्पा नियुक्ति का स्पष्ट प्रावधान नहीं है। साथ हीं उत्क्रमित विद्यालयों के पदों की भी गणना कर अनुकम्पा हेतु चिन्हित नहीं किया गया है। वही इस कारण से राज्य के सभी जिलों में सैंकड़ों की संख्या में अनुकम्पा हेतु पतिक्षारत है। आज सुनवाई के दौरान कई जिलों के जिनमें औरंगाबाद, गया, मोतिहारी के DEO से बात कर मैंने जानकारी प्राप्त की इस संबंध में DEO ने बताया कि अभी विभाग से मार्गदर्शन प्राप्त नहीं हुआ है, प्राप्त होते हीं उचित कार्रवाई की जायेगी।

वही इस संबंध में राज्य सरकार ने नये नियमावली को अतिशीघ्र लागू करने के प्रति गंभीर है। उन्होंने आगे कहा कि बिहार में महागठबंधन सरकार सुनवाई और कार्रवाई पर विश्वास करती है और उस दिशा में लगातार कार्य चल रहा है। दूसरी ओर पिछड़ा, अतिपिछड़ा कल्याण मंत्री अनीता देवी ने कहा कि कर्पूरी छात्रावास के माध्यम से पिछड़ा, अतिपिछड़ा के बच्चे-बच्चियों के बेहतर भविष्य के लिए विशेष ध्यान दिया जा रहा है। कन्या आवासीय विद्यालय के माध्यम से बच्चियों के बेहतर शिक्षा के लिए कार्य किया जा रहा है और बच्चियों का बेहतर भविष्य निर्माण के दिशा में सरकार कार्य कर रही है। वही इस अवसर पर प्रवक्ता एजाज अहमद ने बताया कि लोगों ने अपनी समस्याओं को दोनो मंत्री के समक्ष रखा और उनके निराकरण और समाधान की दिशा में अपने स्तर से मंत्री द्वय ने सुनवाई और कार्रवाई की। वही इस अवसर पर प्रदेश प्रवक्ता एजाज अहमद, प्रदेश महासचिव मो. फैयाज आलम कमाल, डॉ. प्रेम कुमार गुप्ता तथा प्रमोद कुमार राम भी उपस्थित थे।

About Post Author

You may have missed