December 10, 2022

भारत बंद Live: विपक्षी दलों ने रेल-सड़क यातायात को किया बाधित, बिहार में दिखा खासा असर

पटना (अमृतवर्षा डेस्क):   कांग्रेस के भारत बंद का असर सोमवार की सुबह से ही हर जगह बिहार में  व्यापक असर दिखने लगा। कांग्रेस के बुलाये भारत बंद को करीब 20 विपक्षी दलों का समर्थन मिला है। कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ विपक्षी दलों के नेता और कार्यकर्ता के साथ साथ आम लोग भी सड़क पर उतर आये हैं। बंद समर्थकों ने सोमवार की सुबह रेलवे और सड़क मार्ग को अवरुद्ध कर परिचालन बाधित करना शुरू कर दिया। मालूम हो कि बिहार के विपक्षी दलों ने पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की बढ़ी कीमतों के विरुद्ध कांग्रेस के सोमवार को बुलाये गये ‘भारत बंद’ को सफल बनाने के संकल्प को लेकर पटना स्थित कांग्रेस के प्रदेश मुख्यालय सदाकत आश्रम में राजद, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम), रांकपा सहित विभिन्न विपक्षी दलों के नेताओं ने रविवार को बैठक की थी। बंद को लेकर प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने विभिन्न व्यापार और उद्योग संगठनों से पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की बढ़ी कीमतों के विरुद्ध अपनी पार्टी के सोमवार को बुलाये गये ‘भारत बंद’ को सफल बनाने की अपील की थी। राजेंद्र नगर स्टेशन के पास कॉमर्स कॉलेज के सामने विपक्षी दल के कार्यकर्ताओं ने सड़क जाम कर मार्ग को अवरुद्ध कर दिया। वहीं, मीठापुर स्थित बाइपास पर सड़क पर टायर जलाकर विरोध प्रदर्शन किया। सड़क मार्ग को कार्यकर्ताओं ने किया बाधित।

बिहटा : भारत बंद का असर पटना से सटे बिहटा प्रखंड में भी देखने को मिला। राजद समर्थकों ने बिहटा के ओवरब्रिज को जाम करते हुए सरकार विरोधी नारे लगाये। साथ ही बिहटा बाजार के सारी दुकानों को भी बंद करवाया। सड़क पर आगजनी कर पूरी तरह से बंद करा दिया गया। ओवरब्रिज बंद होने से पटना-औरंगाबाद मार्ग पर दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतारें लग गईं। राजद कार्यकर्ताओं का कहना है कि भाजपा सरकार में लगातार मंहगाई बढ़ रही है, जिससे आम लोग काफी परेशान हैं। बढ़ती मंहगाई के खिलाफ सरकार द्वारा कोई सुनवाई नहीं होने पर विपक्ष को सड़क पर उतरने को मजबूर होना पड़ा। उनका कहना था कि जबतक मंहगाई पर नियंत्रण नहीं होता, उनका आंदोलन जारी रहेगा।

समस्तीपुर : भारत बंद के दौरान मथुरापुर घाट, मगरदही घाट, ओवरब्रिज, गोलंबर सहित कई इलाकों में विभिन्न दलों के नेता व कार्यकर्ता ने चक्का जाम कर दिया।

वैशाली : जिला मुख्यालय सहित कई इलाकों में विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं ने आगजनी कर जताया विरोध। महात्मा गांधी सेतु को जाम कर कार्यकर्ताओं ने भजन-कीर्तन शुरू कर दिया जिससे जाम में सैकड़ों वाहन फंसे है।

मधुबनी : जिला मुख्यालय में भी विपक्षी दलों के कार्यकर्ता सड़क पर उतरे। बाजार बंद करा कर विरोध जताया।

नवादा : जिला मुख्यालय में सड़क पर उतरे भाकपा-माले के कार्यकर्ता। केंद्र सरकार विरोधी लगाये नारे।

गया : जिला मुख्यालय के गया जंक्शन पर ट्रेन को रोक कर प्रदर्शन किए। सड़क पर उतर कर बाजार बंद कराया। टायर जला कर सड़क मार्ग को किया गया अवरुद्ध। प्रदर्शन में बच्चे भी बंद समर्थकों के साथ सड़कों पर उतरे। जिले के परैया में बंदी का खासा असर दिखा। बंद रहीं सभी दुकानें। वहीं, फतेहपुर थाना क्षेत्र के ढिबर, गोपीमोड़, खेदरपुरा, तपसा, फतेहपुर झंडा चौक समेत अन्य जगहों पर भी बंद का व्यापक असर रहा। वहीं, बढती मंहगाई को लेकर विपक्ष द्वारा आहुत बंद का असर वजीरगंज में भी देखने को मिला।

खगड़िया : जिला मुख्यालय के खगड़िया स्टेशन पर ट्रेन को युवा शक्ति के कार्यकर्ताओं ने रोके रखा।

सहरसा : कोपरिया स्टेशन के पास कोसी एक्सप्रेस को सुबह छह बजे से भाकपा-माले के कार्यकर्ताओं ने रोक कर रखा।

बांका : बांका जंक्शन पर बांका-राजेंद्र नगर इंटरसिटी ट्रेन को बंद समर्थकों ने रोक जमकर प्रदर्शन किया।

दरभंगा : भारत बंद को लेकर भाकपा (माले) के कार्यकर्ताओं ने दरभंगा के लहेरियासराय में जयनगर -पटना कमला गंगा इंटरसिटी फास्ट पैसेंजर (55527) को रोका।

भोजपुर : जिले के आरा जंक्शन पर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ भाकपा-माले के कार्यकर्ता रेलवे ट्रैक को बाधित कर ट्रेन का परिचालन बाधित किया।

जहानाबाद : बंद समर्थकों ने पटना-रांची जनशताब्दी एक्सप्रेस को रोक कर ट्रेन परिचालन बाधित किया। यहां राजद और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया।

शेखपुरा : भाकपा कार्यकर्ताओं ने किउल-गया पैसेंजर ट्रेन को रोककर रेल परिचालन को बाधित किया।

हाजीपुर : बंद समर्थकों ने पटना-वैशाली मुख्य मार्ग पर आगजनी कर सड़क यातायात को बाधित किया।

बाढ़ : मलाही के पास राजद कार्यकर्ताओं ने एनएच-31 को जाम सड़क मार्ग को अवरुद्ध कर दिया है।

About Post Author

You may have missed