December 3, 2023

जातीय आंकड़े के प्रकाशन से भाजपा नेताओं की तिलमिलाहट बढ़ी : चित्तरंजन गगन

पटना। राजद प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने कहा कि जातीय आंकड़े के प्रकाशन के बाद से भाजपा नेताओं की तिलमिलाहट कुछ ज्यादा हीं बढ़ गई है। इसी वजह से उनके बयानों में विरोधाभास व असहजता दिखाई पड़ने लगी है। भाजपा के कई नेता तो बोलने के क्रम में भाषाई मर्यादा भी भूल जाते हैं। केन्द्रीय मंत्री से लेकर बिहार के पूर्व मंत्री व सांसद भी नुक्कड़ पर के लम्पटों की भाषा बोलने लगे हैं। राजद प्रवक्ता ने आगे कहा कि भाजपा नहीं चाहती कि पिछड़ों व दलितों को उनका हक व अधिकार मिले। RSS द्वारा पूर्व के जनसंघ व आज के भाजपा के गठन का बुनियाद हीं पिछड़ा और दलित विरोध का रहा है। भारतीय संविधान लागू होने के समय से हीं समानता और आरक्षण का विरोध तत्कालीन जनसंघ द्वारा किया जाता रहा है। उन्होंने आगे कहा की व्यवहारिक तौर पर भी जब भी मौका आया जनसंघ और भाजपा ने पिछड़ों और दलितों के राह में रोड़ा बनने का काम किया। 1967 में जब पहली बार बिहार में गैर-कांग्रेसी सरकार बनने की स्थिति हुई तो गैर-कांग्रेसी दलों में सबसे बड़े घटक दल संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी जिसके विधायकों की संख्या 68 थी। के नेता कर्पूरी ठाकुर जी को मुख्यमंत्री बनने का 25 विधायकों वाली पार्टी जनसंघ द्वारा विरोध किया गया। फलतरू महामाया प्र. सिन्हा जी को मुख्यमंत्री बनाया गया। इसी प्रकार 1977 में जब केन्द्र में जनता पार्टी की सरकार बन रही थी तो लोकनायक जयप्रकाश नारायण जी बाबू जगजीवन राम जी को प्रधानमंत्री बनाना चाह रहे थे, पर जनता पार्टी में शामिल पूर्व के जनसंघ घटक ने विरोध किया व मोरारजी देसाई प्रधानमंत्री बने। 1977 में हीं बिहार में कर्पूरी ठाकुर जी मुख्यमंत्री बने व बिहार में आरक्षण लागू किया तो पूर्व जनसंघ घटक के नेताओं ने साजिश कर कर्पूरी जी की सरकार को अपदस्थ कर दिया। 1990 में प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह जी द्वारा जब मंडल आयोग की अनुशंसा को लागू किया गया तो उसके विरोध में भाजपा के लोग न केवल सड़क पर उतर गए बल्कि मंडल के खिलाफ कमंडल लेकर निकल गए। गगन ने कहा कि राजद प्रमुख लालू प्रसाद जी, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव जी के पहल पर जब बिहार की महागठबंधन सरकार द्वारा एक ऐतिहासिक कदम उठाते हुए जातीय जनगणना कराकर उसके आंकड़े जारी कर दिए गए हैं तो भाजपा अपने संपोषित कुछ नेताओं द्वारा भ्रम पैदा करने की नापाक हरकत कर रही है।

About Post Author

You may have missed