February 25, 2024

जदयू दफ्तर में जनसुनवाई कार्यक्रम आयोजित, मंत्री श्रवण और जयंत राज ने सुनी लोगों की शिकायतें

  • बिहार भाजपा में सबसे अधिक राजनीतिक गुटबाजी : श्रवण कुमार
  • हर अच्छी चीजों में श्रेय लेने के लिए आगे कूद जाती है भाजपा : जयंत राज

पटना। आज जदयू मुख्यालय में आयोजित जनसुनवाई कार्यक्रम में बिहार सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार और लघु व जल संसधान मंत्री जयंत राज ने प्रदेशभर के सभी जिलों से पहुंचे आम लोगों की शिकायतों को सुनकर उनके त्वरित निराकरण हेतु सम्बंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। वही इस कार्यक्रम में पत्रकारों से बातचीत करते हुए बिहार सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री श्रवन कुमार ने कहा कि सबसे अधिक गुटबाजी बिहार BJP में है। सुशील कुमार मोदी को दरकिनार किया जा चुका है। भाजपा के पुराने नेता रविशंकर प्रसाद का भी वही हाल है। इसलिए भाजपा दूसरों को उपदेश देने से पहले अपने पार्टी की चिंता करें। श्रवण कुमार ने आगे कहा कि हमलोग BJP की तरह जुमलेबाज नहीं है। बिहार की सरकार जनता से किए प्रत्येक वादे को पूरा कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार देश की सरकारी संपत्तियों को आने-पौने दामों में उद्योगपतियों के हाथों बेच रही है। उन्होंने आगे कहा कि हमारी पार्टी संविधान की रक्षक है और डॉ. भीमराव अंबेदकर के संविधान में प्रदत्त शक्तियों का इस्तेमाल कर वंचित और शोषित वर्गों को सशक्त कर रही है। लघु एवं जल संसाधन मंत्री जयंत राज ने कहा कि 18 दिनों के बाद हमारे मजदूर टनल से बाहर निकले हैं। पूरे देशवासियों के लिए यह खुशी का विषय है। लेकिन भाजपा इसमें भी अपना राजनीतिक फायदा ढूंढने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार को अब इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि इस प्रकार की घटना का भविष्य में पुर्नवृत्ति ना हो। जयंत राज ने आगे कहा कि देश में कुछ भी अच्छा होता है तो भाजपा इसका श्रेय लेने के लिए आगे कूद जाती है। असली श्रेय के हकदार NDRF और SDRF टीम के जवान हैं, जिन्होंने दिन-रात मेहनत कर सकुशल सभी मजदूरों को बाहर निकाला। साथ ही उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग द्वारा इतनी बड़ी संख्या में युवाओं को नौकरी मिल रही है लेकिन BJP के लोग इस विषय पर कुछ नहीं बोल रहे हैं, क्योंकि यह उनको नहीं पच रहा है। शिक्षा विभाग द्वारा छुट्टी को लेकर जारी आदेश पर उन्होंने कहा कि संबंधित विभाग इसको देख रहा है।

About Post Author

You may have missed