December 10, 2022

पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के मुख्यालय को बख्तियारपुर स्थानांतरित करेगी सरकार, शिक्षक संघ करेगा विरोध

पटना। राज्य सरकार ने बख्तियारपुर इंजीनियरिंग कॉलेज के पास कृषि फार्म की 10 एकड़ जमीन पर पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के मुख्यालय को स्थानांतरित करने की योजना बनाई है। राज्य के शिक्षा विभाग के सचिव, असंगबा चूबा एओ ने हाल ही में पटना कलेक्टर-सह-डीएम को लिखे एक पत्र में सूचित किया है कि सरकार ने पाटलिपुत्र यूनिवर्सिटी को अपने ‘स्थायी परिसर’ के निर्माण के लिए कृषि फार्म की 10 एकड़ भूमि आवंटित करने का निर्णय लिया है। शिक्षा सचिव ने पटना कलेक्टर को पीपीयू को भूमि आवंटन के लिए आवश्यक कार्रवाई करने को कहा। इस पर पाटलिपुत्र यूनिवर्सिटी के शिक्षक निकाय ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। राज्य उच्च शिक्षा निदेशक रेखा कुमारी ने सरकार के फैसले की पुष्टि करते हुए कहा कि सरकार ने यह फैसला नालंदा जिले के सैकड़ों छात्रों को लाभ पहुंचाने के लिए लिया है, जिन्हें छोटे-मोटे काम के लिए पटना स्थित विश्वविद्यालय कार्यालय का चक्कर लगाना पड़ता है। उन्होंने कहा कि बख्तियारपुर पीपीयू क्षेत्राधिकार का केंद्र है, जिसमें 25 घटक और 100 से अधिक संबद्ध और बीएड कॉलेज हैं, जो बिहार के पटना और नालंदा दोनों जिलों में स्थित हैं।
पहले मीठापुर में मिली थी जमीन
पीपीयू के रजिस्ट्रार प्रोफेसर जितेंद्र कुमार के अनुसार, बख्तियारपुर में 10 एकड़ कृषि भूमि के आवंटन के बारे में विश्वविद्यालय को अभी तक आधिकारिक अधिसूचना प्राप्त नहीं हुई है। विश्वविद्यालय को पहले पटना में पुराने बस स्टैंड के पास मीठापुर में 8.05 एकड़ जमीन आवंटित की गई थी। लेकिन बाद में इस दलील पर इसे काट कर 6.8 एकड़ कर दिया गया कि वहां मेट्रो स्टेशन बनाने के लिए जमीन छोड़नी होगी, उन्होंने कहा कि 10 एकड़ जमीन के आवंटन से विश्वविद्यालय की जरूरत पूरी होगी। उधर, पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय शिक्षक संघ ने इस फैसले पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रोफेसर एके सिंह ठाकुर ने कहा कि ‘पीपीयू मुख्यालय को बख्तियारपुर में स्थानांतरित करने के पीछे कोई तर्क नहीं है। क्योंकि पटना जिले के छात्रों की जरूरतों को पूरा करने के लिए मार्च 2018 में मगध विश्व विद्यालय (एमयू), बोधगया से विभाजन के बाद विश्वविद्यालय बनाया गया था।

About Post Author

You may have missed