August 11, 2022

नर्सिंग स्टाफ आत्महत्या मामला : सनकी प्रेमी के शक की आदत से थी परेशान, फोटो वायरल की ब्लैकमेलिंग के कारण दी जान

मृतक लड़की की फाइल फोटो

पटना। राजधानी पटना एम्स में नर्सिंग स्टाफ ऊषा रानी लकड़ा अपने प्रेमी के ब्लैकमेलिंग से परेशान थी। बॉयफ्रेंड के शक करने की आदत ने उसे परेशान कर दिया था। वह उसे काम के समय वीडियो कॉल कर, जानने की कोशिश करता कि वो किसी और के साथ तो नहीं। फोन नहीं उठाने पर उसकी निजी तस्वीरें वायरल करने की धमकी देता। इसी के कारण ऊषा का जीना मुश्किल हो गया था, हारकर उसने अपनी जान दे दी। ये अहम खुलासे ऊषा की एक दोस्त ने किए हैं। जानकारी के अनुसार, बीते 20 जून को अपने कमरे में सुसाइड कर लिया था। अपने सुसाइड नोट में उसने ‘अमित टोप्पो’ का जिक्र करते हुए उसे ही मौत का जिम्मेदार बताया था। मामले में फुलवारी शरीफ थाना में FIR दर्ज हुई है। केस की जांच अधिकारी अन्नू प्रिया के अनुसार, अमित टोप्पो की गिरफ्तार के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है।
सहकर्मी बोली- हमेशा खुश रहनेवाली और जिंदादिल लड़की थी ऊषा
बताया जा रहा हैं घटना की जांच के दौरान कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। एम्स में ही ऊषा की एक सहकर्मी ने बताया की वह हमेशा खुश रहनेवाली और दूसरों को सहयोग करनेवाली लड़की थी। अमित टोप्पो से उसकी मुलाकात सोशल साइट पर हुई थी। दोनों में करीब 3 साल से अफेयर था, लेकिन इधर कई महीनों से अमित उसे परेशान करने लगा था। वही अमित वर्किंग आवर में फोन नहीं उठाने पर गाली-गलौज करता था। कभी भी कॉल करता तो चाहता कि ऊषा उससे बात करे। वह अगर कहती कि ऑफिस में काम पर हैं तो वीडियो कॉल कर चेक करता कि सच क्या है। उसे हमेशा शक रहता था कि ऊषा कहीं किसी डॉक्टर के प्यार में तो नहीं पड़ गई। वही जबफोन नहीं रिसीव करने पर कहता कि तुम किसी और से प्यार करने लगी हो और अभी भी किसी और के साथ हो।
फोटो-वीडियो वायरल करने की दे रहा था धमकी
सहकर्मी ने यह भी बताया कि अमित के पास ऊषा की कुछ फोटो-वीडियो थे, जिन्हें लेकर वो हमेशा धमकी दिया करता था। कहता था कि अगर उसकी बात नहीं मानी और हर कॉल रिसीव नहीं किया तो उन फोटो को सार्वजनिक कर देगा। ऊषा का जीवन बर्बाद कर देगा। अमित की दी गई धमकियों की वजह से ऊषा हमेशा सहमी रहती थी। अपने जीवन को हमेशा कोसती रहती और उदास रहती थी। वो उस दिन को सबसे बुरा मानती थी। इधर ऊषा के पिता ने बताया कि उनकी बेटी के फोन की जांच की जाए तो सब पता चल जाएगा। उन्होंने पुलिस की शिथिलता पर सवाल उठाते हुए बच्ची को न्याय दिलाने की गुहार लगाई।
झारखंड के गुमला की है रहनेवाली थी ऊषा
ऊषा रानी लकड़ा मूल रूप से झारखंड के गुमला जिले के चेरो गांव की रहने वाली थी। वह पटना एम्स में नर्स के रूप में कार्यरत थी। पिछले कुछ सालों से फुलवारी शरीफ के वृंदावन कॉलोनी में रह रही थी। बीते सोमवार की दोपहर फुलवारी शरीफ पुलिस को सूचना मिली थी कि ऊषा ने पंखे से झूलकर आत्महत्या कर ली है। वही कमरे से बरामद सुसाइड नोट में सॉरी मां, सॉरी बाबा, मेरे मरने का कारण सिर्फ अमित टोप्पो है, सन ऑफ शीतल टोप्पो लिखा था।

You may have missed