November 26, 2022

पीएम मोदी ने कहा-‘दिल्ली से 1 रूपया भेजता हूं, गरीबों तक 15 पैसा हीं पहुंचता है’

अमृतवर्षाः पीएम मोदी ने आज कहा कि दिल्ली से सरकार 1 रूपया भेजती है और गरीबों तक 15 पैसा हीं पहुंचता है। पीएम ओड़िसा के भुवनेश्वर में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ओडिशा के भुवनेश्वर में पहुंचे चुके हैं वह यहां तालचर उर्वरक संयंत्र के एक कार्यक्रम में भाग लिया और जनता को भी संबोधित किया। इसके अलावा पीएम मोदी झारसुगुडा में स्थानीय हवाई अड्डे का उद्घाटन करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ओडिशा की इस ऐतिहासिक धरती पर आना मेरे लिए सुखद अनुभव है। पीएम मोदी ने कहा कि यह भूमि वीर राजा सोमनाथ सिंह की भी है जिन्होंने अंग्रेजों की पराधीनता स्वीकार नहीं की और ओडिशा से उनको बाहर करने के लिए संघर्ष करते रहे। इन वीरों के आशीर्वाद से तालचेर का फर्टिलाइजर प्लांट, राष्ट्र निर्माण की अहम धुरी बनेगा, ऐसा मेरा विश्वास है।पीएम ने कहा कि तालचेर का खाद कारखाना, अब तक पहले की सरकारों की असफलता का प्रतीक रहा है। अब ये खाद कारखाना, हमारी सरकार की सफलता का प्रतीक बनने जा रहा है।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि जब हमारे देश में संसाधन थे तब इन कारखानों को शुरू करने कोशिश क्यों नहीं हुई। राजनितिक भाषण हुए पर जमीन कर काम क्यों नहीं हुए।पीएम मोदी ने कहा कि ओडिशा ही वो जगह है, जहां पर एक प्रधानमंत्री ने कहा था कि दिल्ली से भेजे जाने वालएक रु में से सिर्फ 15 पैसा ही गरीब तक पहुंचता है। अब हमारी सरकार ये सुनिश्चित कर रही है कि जो पैसा दिल्ली से भेजा जाए, वो शत-प्रतिशत, पूरा आपके बैंक खाते में सीधे जाए।मोदी ने कहा कि 2014 में ग्रामीण स्वच्छता का दायरा सिर्फ 10ः के आसपास था लेकिन अब 55ः तक पहुंच गया है… मेरा विश्वास है कि आने वाले महीनों में अब इस अभियान को और तेज करके आप संपूर्ण स्वच्छता का लक्ष्य भी हासिल करेंगे।बता दें कि राज्य में झारसुगुड़ा हवाई अड्डा और ‘उड़ानश् का उद्घाटन भी करेंगे। यहां पहुंचने के बाद अंगुल जिले के तालचर रवाना हुए मोदी ने वहां ‘कोल गैसश् से संचालित होने वाले देश के पहले उर्वरक संयंत्र की आधारशिला रखी।इस उर्वरक संयंत्र को गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (गेल), कोल इंडिया लिमिटेड, राष्ट्रीय केमिकल्स एंड फर्टिलाइजर्स लिमिटेड और फर्टिलाइजर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के संयुक्त उपक्रम तालचर फर्टिलाइजर्स लिमिटेड द्वारा विकसित किया जा रहा है।
साल 2022 में चालू होने जा रहा यह संयंत्र सुनिश्चित करेगा कि ओड़िशा में यूरिया की उपलब्धता सुलभ हो। राज्य में अब तक कोई यूरिया संयंत्र नहीं है। ओडिशा के अपने एक दिवसीय दौरे में मोदी एनटीपीसी और महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड (एमसीएल) की खदानें और कोयले के परिवहन के लिए बनीं रेल पटरियां राष्ट्र को समर्पित करेंगे।
अधिकारियों ने बताया कि एमसीएल की ओपन कास्ट माइन खदान में 23 करोड़ टन का कोयला भंडार है, जिसकी सालाना उत्पादन क्षमता 1.3 करोड़ टन है। इससे 894 लोगों के लिए प्रत्यक्ष रोजगार और 5,000 लोगों के लिए परोक्ष रोजगार पैदा होगा। प्रधानमंत्री मोदी एमसीएल द्वारा निर्मित झारसुगुडा-सर्डेगा रेलवे लाइन (53.1 किलोमीटर) की भी शुरुआत करेंगे।इस रेल मार्ग को यात्री यातायात के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। मोदी सुंदरगढ़ जिले में एनटीपीसी की दुलंगा कोयला खनन परियोजना भी राष्ट्र को समर्पित करेंगे। यह सरकार द्वारा संचालित कंपनी का दूसरा खदान है जिसे चालू किया जा रहा है। यह राज्य में इस कंपनी का पहला खदान है।
इस खदान से उत्पादित कोयले का इस्तेमाल सुंदरगढ़ जिले में एनटीपीसी के निर्माणाधीन डर्लीपाली सुपर थर्मल बिजली संयंत्र (1600 मेगावॉट क्षमता) में किया जाएगा। झारसुगुडा में नए हवाई अड्डे के बारे में अधिकारियों ने बताया कि इसे हर मौसम में संचालन के लिए विकसित किया गया है।

About Post Author

You may have missed