November 26, 2022

बिहार सिख गुरुद्वारा एक्ट पर तख्तश्री में मीटिंग

इसी माह कमेटी को करना है पास, वर्ना दिसंबर में सरकार विधेयक पेश करेगी

पटना सिटी (आनंद केसरी)। बिहार सिख गुरुद्वारा एक्ट, 2017 बिहार सरकार लागू करना चाह रही है। इसके लिए पूर्व मुख्य सचिव जीएस कंग की अध्यक्षता में समिति का गठन कर इसका प्रारूप तैयार किया गया है। पिछले 26 जुलाई को तख्तश्री पटना साहिब के सम्मेलन कक्ष में मीटिंग की गई थी। उस समय वरीय आईएएस अधिकारी हरजोत कौर के अलावा तख्तश्री कमेटी के वर्तमान पदाधिकारी, मेंबर, निर्वाचित सदस्यों के अलावा सिख संगत भाग ली थी। उस मीटिंग में लोगों को बिहार गुरुद्वारा एक्ट की ड्राफ्टिंग की कॉपी अंग्रेजी में उपलब्ध कराई गई थी। उस मीटिंग में इस एक्ट को लेकर काफी मतैक्य रहा था। इस बार संगतों को सुविधा के लिए सूचना के साथ एक्ट के हिन्दी ड्राफ्ट भी उपलब्ध कराया गया है, ताकि इस पर अपनी बात रख सकें। तब पूर्व मुख्य सचिव जीएस कंग ने कहा था कि बिहार सरकार चाहती तो सम्पन्न विधान मंडल सत्र में इस एक्ट को पास कर देती, मगर उसने सिख संगतों से इस संबंध में राय जाननी चाही है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने श्री गुरु गोविंद सिंह जी के 350वें प्रकाश पर्व और 351वें शुकराना समारोह के दौरान काफी व्यवस्था आने वाले सिख संगतों के लिए की, मगर धार्मिक आयोजनों में कोई हस्तक्षेप नहीं किया। वैसे भी तब कहा गया था कि इस बिहार गुरुद्वारा एक्ट, 2017 को तख्तश्री हरिमंदिर जी प्रबंधक कमेटी विचार कर इसे पारित करे। हालांकि 11 सितंबर को तख्तश्री कमेटी की मीटिंग भी बुलाई गई है। इसमें एक सदस्य का चुनाव करने और नई कमेटी के पदधारियों का चुनाव होगा।

कल अपराह्न होगा कार्यारम्भ: इधर गुरुद्वारा गुरु का बाग में केंद्र प्रायोजित योजना के तहत बनने वाले बहुद्देशीय प्रकाश केंद्र और उद्यान के कार्य का शुभारंभ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार करेंगे। इस दौरान पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव भी मौजूद रहेंगे। तख्तश्री कमेटी के महासचिव सरजिन्दर सिंह ने समूह साध संगत पटना साहिब, नया टोला, फ्रेजर रोड और गोविंद नगर चितकोहरा को पत्र भेज रविवार को पूर्वाह्न होने वाले मीटिंग और अपराह्न योजना के कार्यारम्भ में भाग लेने की अपील की है।

About Post Author

You may have missed