December 6, 2022

आयुष्मान भारत की शुरूआत पर पटना में दिखा सियासी तहजीब का खास लम्हा, जानिए

पटना। पटना में आयुष्मान भारत योजना की शुरूआत के मौके पर सियासी तहजीब का एक खास लम्हा दिखा। राज्यपाल लालजी टंडन ने नीतीश कुमार को एक कर्मयोगी मुख्यमंत्री की उपमा दी तो नीतीश कुमार ने आयुष्मान भारत योजना के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बधाई दी। इस योजना के तहत बिहार में 1 करोड़ 8 लाख परिवारों को 5 लाख रुपये तक की चिकित्सा सुविधा मिलेगी। देश के किसी भी सूचीबद्ध सरकारी और निजी अस्पतालों में इस योजना का लाभ उठाया जा सकेगा।
सीएम ने पीएम को दी बधाई: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आयुष्मान योजना के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बधाई देते हुए कहा कि जब बजट भाषण में इस योजना का जिक्र किया गया था, उसी समय उन्हें यह पसंद आयी थी। सीएम ने कहा कि गरीबों की स्वास्थ्य सेवा के लिए यह योजना बहुत अच्छी है लेकिन इसको लागू करने में सावधानी बरतनी होगी। पारदर्शिता और निगरानी बहुत जरूरी है। जिस तरह 30 हजार की बीमा योजना में गड़बड़ी हुई थी, वैसा नहीं होना चाहिए। बिहार में इस योजना को पूरी तरह पारदर्शी बनाया जाएगा। इस बात की लगातार निगरानी होगी कि कहीं कोई गड़बड़ी न करे।
5 हजार बेड वाला अस्पताल बनेगा पीएमसीएच: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पीएमसीएच को 5 हजार बेड वाला अस्पताल बनाया जाएगा। जल्द ही यह अस्पताल नये स्वरूप में दिखेगा। उन्होंने कहा कि बिहार की चिकित्सा सेवा में गुणात्मक सुधार आया है। अब एक पीएचसी में हर महीने औसतन 11 हजार मरीज इलाज के लिए आ रहे हैं। सरकारी अस्पतालों के प्रति लोगों की सोच बदली है। जिनकी आमदनी 2.5 लाख से कम है उसे बिहार सरकार 10 लाख तक मदद दे रही है। लोगों को यह मदद सीएम चिकित्सा कोष के तहत दी जा रही है। राज्य सरकार ने दिल्ली और मुम्बई में भी आसानी से इलाज के लिए इंतजाम किया है।
राज्यपाल ने की नीतीश की तारीफ: आयुष्मान भारत योजना की लॉन्चिंग के मौके पर राज्यपाल लालजी टंडन ने नीतीश कुमार को कर्मयोगी मुख्यमंत्री के रूप में संबोधित किया। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार की चर्चा लोकप्रिय मुख्यमंत्री के रूप में होती है लेकिन मैं उन्हें कर्मयोगी मुख्यमंत्री मानता हूं। राज्यपाल ने कहा, मैं कर्मयोगी मुख्यमंत्री का इस कार्यक्रम में स्वागत करता हूं। उन्होंने कहा कि यह योजना आम लोगों के लिए है। इस मामले में अमानत में खयानत नहीं होनी चाहिए।

About Post Author

You may have missed