February 26, 2024

बागेश्वर बाबा एक नाम मात्र : विजय चौधरी ने कहा- इनके सहरे चुनाव जीतना चाह रही भाजपा

पटना। बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेन्द्र शास्त्री के हनुमंत कथा का आज आखिरी दिन है। 5 दिवसीय इस कथा के दौरान तरेत पाली में भक्तों की भारी भीड़ देखने को मिल रही है। वही भक्तों की भीड़ को देखते हुए बागेश्वर धाम के बाबा के ऑफिसियल ट्वीट से बीते दिनों यह ट्वीट किया गया कि बिहार, पटना में का बा, बागेश्वर सरकार बाबा बा पटना में हमारे सरकार ने तो गर्दा उड़ाकर रखा है. उन्होंने लिखते हुए कहा की जितनी भीड़ CM या नेताओं के पैसे दे-देकर बस बुक करने में नहीं आती उसकी दोगुनी तो, यहां बाबा को देखने के लिए पागल हुई है. सनातन की ऐसी अलख बिरले ही मिलती है। अब इस ट्वीट को लेकर JDU हमलावर है। वही इस कथा के आखिरी दिन JDU नेता और बिहार सरकार के मंत्री विजय चौधरी ने भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि बाबा तो एक मुखौटा हैं। इसके पीछे BJP काम कर रही है और वह इसलिए काम कर रही है कि 2024 लोकसभा और 2025 बिहार विधानसभा का चुनाव जीत सकें।
संविधान को ध्वस्त करना चाहती है बीजेपी
उन्होंने कहा कि बिहार के लोग गंभीर और सजग हैं। वह इस तरह की बातों में नहीं आने वाले हैं। सनातन धर्म पर किसी की ठेकेदारी नहीं है। यहां के लोग पूर्णता सनातनी हैं और हर धर्म को मानने वाले हैं। BJP का उस पर कोई कॉपीराइट नहीं है। विजय चौधरी बीजेपी पर अटैक करते हुए कहा कि इन सभी लोगों ने गांधीजी के तमाम मान्यताओं को तोड़ दिया है। यह लोग जनमानस से महात्मा गांधी की स्मृति को समाप्त कर रहे हैं। वही महात्मा गांधी ने जिन मूल्यों की स्थापना भारत में करनी चाही थी। जिन उसूलों पर संविधान का निर्माण किया था। इस तरह के कार्यक्रम के जरिए भाजपा संविधान को ध्वस्त करना चाहती है। ऐसा करके पूरी तरह से जनता को बेवकूफ बनाया जा रहा है। वही इस पूरे खेल के पीछे भाजपा का हाथ है और वह दूसरा खेल खेलना चाह रही है। वही आगे विजय चौधरी ने कहा कि सनातन धर्म की परिभाषा भाजपा, जदयू, राजद और कांग्रेस तय नहीं कर सकती है। किसी को भी सनातन धर्म की परिभाषा तय करने का अधिकार नहीं है। लेकिन, जिस तरह से सब कुछ लोगों के सामने परोसा जा रहा है। उससे लोगों में तनाव फैलता है। भाजपा इसके तहत चुनावी वैतरणी पार करना चाहती है। यहां के लोग बहुत ही सजग और गंभीर लोग हैं। जनता BJP के इस साजिश को भली भांति जानती है।

About Post Author

You may have missed