November 26, 2022

ग्रह-गोचरों के युग्म संयोग में 12 सितंबर को मनेगी हरितालिका तीज

पटना (अमृतवर्षा डेस्क)। सुहागिन महिलाओं के अखंड सुहाग के लिए किया जाना वाला हरितालिका तीज व्रत आगामी 12 सितंबर को है। तीज के दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत-उपवास रखती हैं। तीज का व्रत रखने से विवाहित स्त्रियों के पति की उम्र लंबी होती है। शिव के समान पति की कामना के लिए इस व्रत को कुंवारी लड़कियां भी इस व्रत को पूरे विधि-विधान के साथ करती हैं। इस दिन पूजा में मिट्टी से भगवान शिव-पार्वती की मूर्ति बनाकर महिलाएं उसे वेदोक्त मंत्रों से विधिवत पूजा करती हैं।
कर्मकांड विशेषज्ञ पं. राकेश झा शास्त्री ने बताया कि इस बार तीज का पर्व काफी सुखद संयोग लेकर आया है। तृतीया तिथि 12 सितंबर बुधवार को सूर्योदय से लेकर संध्या 6:38 बजे तक है। इस दिन ग्रह-गोचरो का युग्म संयोग भी बन रहा है। भाद्रपद मास शुक्लपक्ष तृतीया तिथि बुधवार दिन के साथ शुक्ल योग का अति पुण्यप्रद संयोग बन रहा है। इस पुण्य योग में व्रत करने से अखंड सौभाग्य, सुख-समृद्धि, निरोग काया एवं पति की चिर आयु का आशीर्वाद मिलता है। इस तीज व्रत को करने से सुहागिन स्त्रियों के सौभाग्य में वृद्धि होगी तथा शिव-पार्वती उन्हें अखंड सौभाग्य का वरदान भी देंगे।

तपस्या और निष्ठा का व्रत

ज्योतिषी पं. शास्त्री ने बताया कि लिंग पुराण के अनुसार माता पार्वती ने जंगल में जाकर शिव को अपने पति के रूप में पाने के लिए अन्न तथा जल ग्रहण किये वगैर सालों तक तप करती रही, तब शिव ने उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर पार्वती को पत्नी के रूप में स्वीकार किये थे। महिलाएं इस व्रत को तपस्या और निष्ठा के साथ करेंगी तो सात जन्मों तक शिव स्वरूप में उनके वही पति मिलेंगे।

पूजन शुभ मुहूर्त

प्रदोष मुहूर्त: शाम 6:08 बजे से 7:24 बजे तक
गुली काल मुहूर्त: दोपहर 10:13 बजे से 11:46 बजे तक

इन मंत्रो से करे उमा-महेश्वर पूजा

पंडित राकेश झा शास्त्री ने बताया कि इन मंत्रों के उच्चारण करते हुए पूजा करने से मनोवांछित कामना पूर्ण होंगी, साथ ही उनकी असीम अनुकंपा की प्राप्ति भी होगी। इस महापुण्य फलदायी संयोग में पूजा करने से धन-धान्य, ऐश्वर्य तथा उत्तम स्वास्थ्य का वरदान भी मिलेगा।
भगवान भोलेनाथ की पूजा के दौरान ये मंत्र पढ़े: ऊँ हराय नम:, ऊँ महेश्वराय नम:, ऊँ शम्भवे नम:, ऊँ शूलपाणये नम:, ऊँ पिनाकवृषे नम:, ऊँ शिवाय नम:, ऊँ पशुपतये नम:, ऊँ महादेवाय नम:।।
माता पार्वती के पूजन के समय ये मंत्र कहे: ऊँ उमायै नम:, ऊँ पार्वत्यै नम:, ऊँ जगद्धात्र्यै नम:, ऊँ जगत्प्रतिष्ठयै नम:, ऊँ शांतिरूपिण्यै नम:, ऊँ शिवायै नम:।।

राशि के अनुसार करे पूजा

मेष- इस राशि के लोग तीज के दिन रेशमी वस्त्र शिव जी को अर्पित करें, साथ ही शिव जी को पंचामृत अर्पित करें।
वृष- तीज के दिन शिव जी और पार्वती को गुलाब के पुष्प अर्पित करें। शिव जी को सुगंध अर्पित करें।
मिथुन- इस राशि वाले लोग तीज के दिन मां पार्वती को हल्दी और शिव जी को सफेद चंदन अर्पित करें। हरे वस्त्र धारण करें।
कर्क- तीज के दिन शिव जी का श्रृंगार करें और साथ ही नम: शिवाय का जाप करें।
सिंह- इस राशि के लोग तीज के दिन शिव पार्वती को पीले फूल की माला अर्पित करें और रुद्राष्टकम का पाठ करें।
कन्या- कन्या राशि वाले तीज के दिन शिव जी को बेल पत्र अर्पित करें। मेहंदी जरूर लगाएं।
तुला- तीज के दिन शिव जी को पंचामृत अर्पित करें। श्रृंगार की वस्तुओं का दान करें।
वृश्चिक- वृश्चिक राशि वाले इस दिन शिव जी को दूर्वा अर्पित करें। पीले वस्त्र धारण करें।
धनु- शिव-पार्वती को एक साथ सुगन्धित पुष्प अर्पित करें और लाल वस्त्र धारण करें।
मकर- शिव जी के मंदिर में घी का दीपक जलाएं। सफेद चंदन शिवलिंग पर अर्पित करें।
कुंभ- शिव जी को सफेद पुष्प अर्पित करें। गुलाबी वस्त्र धारण कर पूजा करें।
मीन- मीन राशि वाले लोग तीज के दिन मां पार्वती को हल्दी और शिव जी को सफेद चंदन अर्पित करें। हरे वस्त्र धारण करें।

About Post Author

You may have missed