December 6, 2022

एसएसपी को चुभ गयी है ‘लव लेटर’ वाली बात-‘महिला सुरक्षा की बात करने वाले सांसद को नहीं शोभा देती ऐसी भाषा’

अमृतवर्षा डेस्कः पप्पू यादव पर कथित हमला मामले को लेकर बिहार में गरमा-गरमी चल रही है। आमतौर पर बिहार में ऐसी गर्माहट राजनीति में देखी जा सकती है लेकिन यह मामला थोड़ा अलग है। दरअसल बिहार में एक सांसद और एक महिला आईपीएस अघिकारी के बीच लड़ाई ठन गयी है। पप्पू यादव ने एसएसपी पर मानहानी का मुकदमा करने की बात कही है। तो दूसरी तरफ एसएसपी ने पप्पू यादव के उस बयान पर आपत्ति जतायी है जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘एसएसपी रात के 9 बजे पत्रकारों को लवलेटर लिखती है’। पप्पू यादव के इस बयान का जवाब देते हुए मुजफ्फरपुर की एसएसपी ने कहा कि एक सांसद को ऐसी भाषा शोभा नहीं देती।
आज क्या कहा सांसद पप्पू यादव ने
जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्‍ट्रीय संरक्षक सह सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्‍पू यादव ने 6 सितंबर को सवर्णों के बंद के दौरान उनपर हुए हमले में मुजफ्फरपुर एसएसपी के शामिल होने का आरोप लगाया. पटना में आयोजित संवाददाता सम्‍मेलन में उन्‍होंने कहा कि उस दिन मेरी हत्‍या की पूरी साजिश थी, जिसमें एसएसपी भी शामिल थीं. क्‍योंकि घटना मुजफ्फरपुर के खबरा में हुई और एसएसपी ने चंद्रहटी का वीडियो दिखाकर मामले से पल्‍ला झाड़ने की कोशिश की. सांसद पप्पू यादव ने कहा कि हमले के वक्‍त हमने एसएसपी, आईजी और मुख्‍यमंत्री के पीए को इस बाबत जानकारी देने की कोशिश की, मगर एसएसपी ने इस पर कोई एक्‍शन नहीं लिया. बाद में कहा कि हमला हुआ ही नहीं. इसलिए हम इस मामले को लेकर कल हाई कोर्ट जायेंगे और लोकसभा स्‍पीकर से भी शिकायत करेंगे. साथ ही एसएसपी पर दो करोड़ के मानहानि का मुकदमा और उनके खिलाफ सांसद के विशेषाधिकार का भी प्रयोग करेंगे.
पप्पू यादव के ‘लव लेटर’ वाले बयान पर एसएसपी का जवाब
मुजफ्फरपुर एसएसपी हरप्रीत कौर और मधेपुरा सांसद पप्पू यादव के बीच ठन गई है. पप्पू यादव के हमले का मुजफ्फरपुर एसएसपी ने करारा जवाब दिया है. एसएसपी ने कहा कि पप्पू यादव महिला सुरक्षा और सम्मान के लिए पैदल मार्च कर रहे हैं. और एक महिला ( मेरे बारे ) के बारे में अमर्यादित बयान दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि एसएसपी रात 9 बजे पत्राकारों को लव लेटर लिखती है. एक सांसद का यह एक महिला अधिकारी के बारे में अमर्यादित बयान देना शोभा नहीं देता.एसएसपी ने आगे कहा कि पप्पू यादव मेरे ऊपर ब्रजेश ठाकुर से समबन्ध का आरोप लगा रहे हैं. बोल रहे हैं कि मैंने ब्रजेश ठाकुर को जेल की जगह अस्पताल में रखा. माननीय सांसद को ये भी नहीं पता कि मैं चार महीने से मुजफ्फरपुर में हूँ. मैंने ही ब्रजेश ठाकुर के खिलाफ कारवाई की. जहाँ तक उन्हें अस्पताल में रखने का सवाल है सांसद को पता होना चाहिए कि किसे जेल में रखना है और किसे अस्पताल में ये कोर्ट और जेल का फैसला होता है. इसमे एसएसपी का कोई रोल नहीं होता.

About Post Author

You may have missed