December 10, 2022

पटना में पीपल के पेड़ से शेषनाग की आकृति मिलने से उमड़ी लोगों की भीड़, पूजा-पाठ शुरू

पटना। बिहार की राजधानी पटना के बिक्रम इलाके में नगर पंचायत के खोरैठा गांव में गिरे हुए पीपल के पेड़ से शेषनाग जैसी आकृति निकली है। जिसे देखने के लिए वहां लोगों की भारी भीड़ इकट्ठा हो गई, रात भर पूजा पाठ चलती रही। पेड़ में शेषनाग के अचानक उभरे चित्र को देखकर लोगों में खलबली मच गई और कई लोग आस्था की प्राकाष्ठा में डूब गए। दरअसल इसी साल बरसात के मौसम में खोरैठा गांव में स्तिथ जवाहर नवोदय विद्यालय के पास एक शिव मंदिर पर तेज हवा पानी के कारण पीपल का एक विशाल पेड़ गिर गया था। जिसके बाद शिव मंदिर क्षतिग्रस्त हो गया लेकिन भगवान शिव, मां पार्वती के शिवलिंग के साथ नंदी को कोई खरोच तक नहीं आई थी। वहीं जब शुक्रवार को खोरैठा गांव के कुछ लोगों की नजर पीपल के पेड़ के पास गई, तो घूम रहे लोगों ने गिरे हुए पीपल के पेड़ से शेषनाग कि तरह दिखने वाला एक चित्र अचानक देखा। जिसके बाद पुरे गांव में पीपल के पेड से शेषनाग के प्रकट होने का शोर मच गया।
मंदिर में लोगों की लगी भारी भीड़
देखते ही देखते लोगों कि भारी भीड़ वहां जमा हो गई। गांव के लोगों ने रात तक पेड़ के पास पूजा भी शुरू कर दी। लोगों ने कहा कि यह भगवान शिव का चमत्कार है। कुछ महीने पहले ही गिरे पीपल के पेड़ के नीचे से शेषनाग की तरह आकृति का सांप निकला है। बरहाल पीपल के पेड़ के नीचे से शेषनाग जैसी आकृति के प्रकट होने के बाद पूरे इलाके में ये चर्चा का विषय बना हुआ है। लोग दूर-दराज से पूजा करने पहुंच रहे हैं और कह रहे हैं कि भगवान शिव की महिमा अपार है और उनके महिमा से ही इस तरह का दृश्य देखने को मिल रहा है। वहीं, स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि कुछ माह पूर्व बरसात के समय में विशाल पीपल का पेड़ गिर गया था। हालांकि पेड़ गिरने के बाद भगवान शिव मां पार्वती और नंदी को कोई नुकसान नहीं हुआ था। कल देर शाम कुछ बच्चे खेल रहे थे इसी दौरान बच्चों की नजर पीपल के पेड़ के जड़ के पास पड़ी, जहां शेषनाग जैसी आकृति देखा गया। बच्चों ने इसकी सूचना अपने आसपास के लोगों को दिया। तब लोगों ने मौके पर पहुंचकर देखा कि शेषनाग जैसी आकृति दिख रही है। जिसके बाद देर रात तक लोग पूजा करने के लिए पहुंच रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह का दृश्य देखना काफी भाग्यशाली माना जाता है, भगवान शिव खुद प्रकट होकर इस तरह से दर्शन दे रहे हैं।

About Post Author

You may have missed