December 6, 2022

 प्रशांत किशोर और CM नीतीश कुमार में जुबानी जंग, पीके बोले- नीतीश कुमार का NDA से कोई रिश्ता नहीं है तो JDU के MP राज्य सभा में उपसभापति क्यों

पटना। वही इन दिनों चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर और बिहार के CM नीतीश कुमार में जुबानी जंग चल रही है। बता दे की दोनों नेता एक दूसरे के खिलाफ आग उगल रहे हैं। वही हाल में ही प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार पर हमला करते हुए कहा कि बहुत जल्द वह BJP के साथ गठबंधन कर लेंगे। ऐसा इसलिए है क्योंकि राज्यसभा में उपसभापति JDU के हरिवंश हैं और वही दोनों दलों के बीच की कड़ी है। वही इस बयान के बाद राजनीति काफी तेज हो गई। PK पर JDU,RJD और BJP ने जमकर हमला किया। वही CM नीतीश कुमार ने प्रशांत किशोर के इस हमले के बाद कहा कि वह पब्लिसिटी पाने के लिए जन सुराज यात्रा निकाले हुए हैं। उससे बहुत कुछ फायदा नहीं होने वाला है। तो मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि प्रशांत किशोर के बारे में उनसे सवाल न किया जाए। वह उनको बहुत सम्मान देते थे लेकिन उन्होंने सम्मान की इज्जत नहीं रखी। वही इसके बाद प्रशांत किशोर ने भी नीतीश कुमार पर हमला करते हुए सुबह-सुबह ट्वीट के जरिए कहा की यदि नीतीश कुमार का BJP या NDA से कोई रिश्ता नहीं है तो JDU के MP राज्य सभा में उपसभापति क्यों है। एक साथ ये कैसे हो सकता है। वही प्रशांत किशोर ने कहा कि यदि नीतीश कुमार ने पब्लिसिटी की बात कही है तो मैं गांव गांव घूम रहा हूं। मुझे पब्लिसिटी करना होता तो मैं पटना में बैठकर प्रेस कॉन्फ्रेंस करता रहता। अगर पैदल चल कर पब्लिसिटी मिल रही है तो मैं नीतीश कुमार को सुझाव दूंगा कि वह भी पैदल चलकर पब्लिसिटी उठाएं। कम से कम जनता का भला हो जाएगा।
विकास ना के बराबर
वही प्रशांत किशोर ने कहा कि मैंने 20 दिन पदयात्रा की है। सरकार के जो दावे हैं, वह बिल्कुल फेल है। पलायन, शिक्षा, किसान, महिला, बच्चे को लेकर जो दावे किए गए हैं। वह बिल्कुल फेल है। वही पीके ने सरकार को सुझाव देते हुए कहा कि जो राजधानी पटना में बैठकर अपने दावे को सच मान रहे हैं। उन्हें हकीकत जानने के लिए गांव जाकर देखना चाहिए। वही पीके ने कहा कि बिहार में अफसरशाही हावी है। जो अफसर है, वही सरकार चला रहे हैं और वह जो दिखा रहे हैं, वह जनप्रतिनिधि देख रहे हैं। जनप्रतिनिधियों की बहुत नहीं चलती है। यहां अधिकारियों की ही चलती है। जो विकास के दावे अधिकारी करते हैं। उसी को सच बता कर दिखाते हैं। जबकि यहां विकास ना के बराबर हुआ है।

About Post Author

You may have missed