December 5, 2022

शिकायत पर सिविल सर्जन टीम ने किया अस्पताल का निरीक्षण, डाटा आॅपरेटर हुये निलंबित

फतुहा। प्रखंड में संचालित पीएचसी का कार्य पिछले माह से बेपटरी हो चुकी थी। चिकित्सक अपने ड्यूटी से नदारद रहते थे और मरीजों की गंभीर परेशानी बढ़ गयी थी। आॅपरेशन का काम ठप्प था। वहीं चिकित्सा प्रभारी डॉ. अनिल कुमार प्रभात की अन्य चिकित्सक व अधिकांश स्वास्थ्यकर्मी के बीच उपजे मतभेद जगजाहिर हो चुकी थी। चिकित्सा प्रभारी के मनमानी रवैये से स्वास्थ्य कर्मी नाराज हीं नहीं बल्कि आक्रोशित भी थे। जन प्रतिनिधियों ने पीएचसी के खस्ताहाल व्यवस्था को देखते हुए सिविल सर्जन से लेकर विभाग के सचिव तक चिकित्सा प्रभारी के विरुद्ध गुहार लगाये। इसी के आलोक में पटना सिविल सर्जन कार्यालय से एक टीम फतुहा में पहुंचकर पीएचसी का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान एक डाटा आॅपरेटर अंकित कुमार को मरीजों के परिजनों से पैसे की लेने के आरोप में निलंबित कर दिया गया। इसके बाद टीम अलग-अलग चिकित्सा प्रभारी, स्वास्थ्य कर्मियों तथा जन प्रतिनिधियों से बात की। अस्पताल की बिगड़ते हालात पर स्थानीय अधिकारियों को फटकार भी लगायी। जहां मुखिया संघ के अध्यक्ष महेश कुमार पीएचसी की यथाशीघ्र हालात को टीम से सुधारने की मांग की, वहीं नगर उपाध्यक्ष सुषमा देवी, वार्ड पार्षद पूनम देवी, वार्ड पार्षद संजय कुमार, दीपक कुमार पीएचसी के बेहतर संचालन के लिए पूर्व चिकित्सा प्रभारी डॉ. सुधा शंकर राय को फिर से बहाल करने की मांग किये। मौके पर टीम का नेतृत्व करते एचएमओ डॉ. धनेश सिंह ने बताया कि जांच रिपोर्ट के सभी तथ्यों को विभाग के वरीय अधिकारियों को सौंपी जायेगी। मौके पर टीम का नेतृत्व करते एचएमओ डॉ. धनेश सिंह ने बताया कि जांच रिपोर्ट के सभी तथ्यों को विभाग के वरीय अधिकारियों को सौंप दी जायेगी। टीम में डीआईओ डॉ. एसपी विनायक, धनरुआ के चिकित्सा प्रभारी डॉ. उदय नारायण प्रताप सिंह तथा सिविल सर्जन कार्यालय के प्रधान लिपिक जितेंद्र कुमार के साथ जनप्रतिनिधि में पूर्व नगर उपाध्यक्ष संजय गोप के अलावे कई वार्ड पार्षद तथा मुखिया उपस्थित थे।

गंगा स्नान करने पहुंचे बाबा गंगा में डूबे, नहीं मिला शव

फतुहा। रविवार को पटना सिटी के एक आश्रम के बाबा का स्थानीय त्रिवेणी घाट पर स्नान करने के दौरान गंगा में डूबने का मामला सामने आया। हालांकि यह घटना बीते शुक्रवार की है लेकिन यह मामला तब सामने आया जब पटना सिटी के मालसलामी स्थित श्रीचंद्र उदासीन आश्रम के वासी उनकी खोज में फतुहा त्रिवेणी घाट पर पहुंचे। इस संबंध में ग्रामीणों ने बताया कि बाबा के डूबने की पुष्टी हुई है वहीं नदी थानाप्रभारी नागेंद्र पाल ने भी पुष्टि करते हुये बताया कि शव की तलाशी के लिये एसडीआरएफ की टीम को सूचित किया गया है। उन्होंने बताया कि शुक्रवार को द्वादशी तिथि के अवसर पर उस आश्रम के 80 वर्षीय बाबा काशी मुनि जी गंगा स्नान के लिये फतुहा के त्रिवेणी घाट पर पहुंचे थे।

त्रिवेणी घाट से 65 वर्षीय बेहोशी अवस्था में महिला का शव बरामद

फतुहा। प्रखंड अंतर्गत त्रिवेणी घाट पर रविवार को नदी थाना पुलिस 65 वर्षीय वृद्धा महिला का शव बरामद किया। बरामद शव की पहचान नहीं की जा सकी। पुलिस शव को पोस्टमार्टम के लिये पटना भेज दिय। इस संबंध में नदी थानाप्रभारी नागेन्द्र पाल ने बताया कि ग्रामीणों की सूचना पर महिला को बेहोशी हालत में बरामद कर पीएचसी में ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने महिला को मृत घोषित कर दिया।

उत्पाती बंदरों ने 15 को काट किया जख्मी, वार्ड पार्षद ने लगाई सुरक्षा की गुहार

फतुहा। प्रखंड अंतर्गत देवीचकवासी पिछले दस दिनों से उत्पाती बंदरों के आतंक से परेशान हैं। वहीं उत्पाती बंदरों ने इतने दिनों में पंद्रह लोगों को काटकर जख्मी कर दिया। जिसका इलाज पीएचसी से लेकर निजी अस्पताल में चल रहा है। इस संबंध में वार्ड पार्षद सोनामति देवी थानाध्यक्ष को लिखित सूचना देते हुए यथाशीघ्र बंदरों के आतंक से मुक्ति दिलाने की गुहार लगाई। इस संबंध में बताया गया कि प्रखंड अंतर्गत देवीचक मोहल्ले में कई माह से बंद पड़े शेफाली इंटरनेशनल स्कूल के परिसर में उत्पाती बंदरों ने आश्रय बना रखा है तथा आसपास के लोगों के साथ बच्चे को निशाना बना रखा है। बंदरों के काटने से जख्मी सदस्यों में अधिकतर बच्चे शामिल हंै।

मालाकार महागठबंधन की बैठक आयोजित

फतुहा। प्रखंड अंतर्गत वाणी पुस्तकालय के समीप परिसर में मालाकार महागठबंधन की बैठक आयोजित की गयी। बैठक में महागठबंधन के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रकाश मालाकार केंद्र सरकार से लेकर बिहार सरकार की अनुशंसा के अनुसार माली जाति को अनुसूचित जनजाति में शामिल करने की मांग की। साथ हीं सरकारी संस्थानों में माली के पद पर माली जाति को हीं नियुक्त करने तथा ज्योतिबा फुले और सावित्री बाई फुले को भारत रत्न से सम्मानित करने की मांग की। बैठक के दौरान उन्होंने पटना जिला के अध्यक्ष के रुप में विजय मालाकार, उपाध्यक्ष के रुप में बलराम मालाकार तथा प्रखंड अध्यक्ष के रुप में कौशल मालाकार को मनोनीत किया। मौके पर मालाकार समाज के कई लोग उपस्थित थे।

About Post Author

You may have missed