Sat. Jul 20th, 2019

जनता कर रही त्राहिमाम,पटना-अरवल सड़क तालाब में तब्दील

पटना/अरवल (अजित यादव)। बिहार के राजधानी पटना को ग्रामीण इलाके अरवल जिला से जोड़ने वाली अति व्यस्ततम सड़क पाली – अकबरपुर की मार्ग इस बारिश में लबालब तालाब जैसा नजारा पेश कर रहा है। सड़क में गड्ढे हैं या गड्ढों में सड़क पता ही नही चल पा रहा है। इस सड़क की जर्जर और दयनीय हालत से इस मार्ग से रोजाना गुजरने वाले हजारों लोग त्राहिमाम कर रहे है क्योकि इस सड़क पर जगह जगह छोटे बड़े गड्ढे जानलेवा साबित हो रहे हैं। इतना ही नही कई गाँवो के पास लोगों की लापरवाही और जल निकासी की कोई बेहतर योजना नही होने से घरों से निकला ड्रेनेज का पानी भी जर्जर सड़क को तालाब बना दे रहा है। अब तो लोग इस रास्ते से गुजरने से पहले कई बार हनुमान जी का नाम लेकर ही आगे बढ़ते हैं। वहीं कई लोग इस सड़क से गुजरना छोड़ चुके है जो उसकी हालत से वाक़िफ़ है। उन्हें लगता है कि भले ही दूसरी सड़क से जाने में क्यों न लम्बा दूरी तय करना पड़े लेकिन इस जर्जर जानलेवा सड़क से गुजरना मंजूर नही।
जहाँ हा पाली – अकबरपुर पथ पर महज पालीगंज अनुमण्डल बाजार से तीन किलोंमीटर पर स्थित एक गाँव रामपुर नगंवा है। इस गाँव घुसने से पहले ही एक छोटे से पुल है वही उसके बगल मे थोड़ी ढलान है। कई सालों पहले बनी यह सड़क की हो गए। यहाँ आसपास सड़क किनारे कई घर जिनके पानी भी नाले के भी सड़क पर आ गिरते है। यहाँ जलजमाव होने से धीरे धीरे गड्ढे होते होते एक बड़े तलाब मे तब्दील हो चुकी है। अगर वर्षा जमकर हो गई तो समझिए इस गड्ढे पानी कमर भर से अधिक हो जाती है। जबकि हमेशा घुटने भर तो आम बात है। जिसके कारण छोटे वाहन तो दूर की बात बड़े वाहन के ड्रावरो को इससे निकलना या पार करना किसी बहादुरी से कम नही। वही मोटरसाइकल सवार को पार करना की बुरे स्वप्न से कम नहीं, अगर किसी ने हिम्मत दिखाकर पार करना चाहा तो समझिए उसकी इस गड्ढे मे गिरना तय है अगर वह पार कर गया तो वह बहुत ही किस्मत वाला व्यक्ति है।
यहाँ गड्ढे के आसपास रहने वाले लोगों सड़क किनारे अतिक्रिमन कर अपनी दुकाने, तो किसी ने जानवरो की नाद बना कर सड़क किनारे फुटपाथ को अपनी जागीर बना चुके है।हद तो पार हो जाती जब गड्ढे के बगल मे बड़े बड़े पत्थर लगा दिए है ताकि बगल से मोटरसाइकल और पैदल भी लोग पार न कर सके। अब इस रास्ते से टेम्पो भी नही पार करती न ही मोटरसाइकिल सवार गुजरते हाँ अंजाने लोग अगर इसे हल्के लेकर पार करने की हिम्मत दिखाई तो उसकी शामत आनी तय समझिए।
वैसे लोकसभा चुनाव के पूर्व संध्या पर कुछ दिन पूर्व इस सड़क की चौडीकरण और नए सिरे करीब,17 करोड़ की लागत से बनाने की शीलन्यास राज्य के मंत्री नन्दकिशोर यादव और केंद्रीय मंत्री सह स्थानीय लोकप्रिय सांसद रामकृपाल यादव ने बड़े ही धूमधाम से किया था, सभी माननियों ने दावे भी किया था की निर्माण कार्य जल्द ही शुरू हो जाएगा लेकिन चुनाव भी बीत और दो माह उपर गुजर गए लेकिन कार्य शुरू नही हुए।
इस सब मुद्दे पर भाजपा के वरिष्ठ नेता सह समाजिक कार्यकर्ता ब्रिजा प्रसाद सिंह यादव कहते है की इसकी कार्य नही शुरू होने के पीछे अभियनताओ की लापरवाही से नही हो सकी है। जबकि इसकी टेंडर और वर्क औडर हो चुके थे।