Sat. Jul 20th, 2019

आखिर कब थमेगी बाढ़ में दो बाहुबलियों के बीच वर्चस्व की जंग ?

पटना/बाढ़। मोकामा के बाहुबली विधायक अनंत सिंह उर्फ छोटे सरकार और अनंत सिंह के जानी दुश्मन माने जाने वाले विवेका पहलवान के बीच वर्चस्व की लड़ाई थमने का नाम नहीं ले रही है। इन दो बाहुबलियों की लड़ाई में अब तक दर्जनों निर्दोष लोगों की जानें जा चुकी है। बता दें लोकसभा चुनाव में विवेका पहलवान ने जदयू के वरिष्ठ नेता राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह को खुलकर समर्थन किया था और अनंत सिंह को खुली चुनौती देने के लिए अनंत सिंह के पैतृक गांव लदमा में नरमुंड सभा किया था। इन दोनों के बीच अदावत वर्षों पुरानी है और मंगलवार की रात्रि अनंत सिंह के समर्थक के घर पर चढ़कर गोली चलाने का आरोप विवेका पहलवान व अन्य पर लगा है। बताया जाता है कि गोली चलाने की सूचना पाने के बाद आज बुधवार को विधायक अनंत सिंह लदमा पहुंचे हैं। इस संबंध में दोनों ओर से बाढ़ थाने में आवेदन दिया गया है। वहीं पुलिस मामले की जांच में जुट चुकी है।
थाने में दिए गए आवेदन के अनुसार, नदवां निवासी सच्चिदानंद सिंह ने एक आवेदन दिया है। सच्चिदानंद सिंह के अनुसार वे मोकामा विधायक अनंत सिंह के खेतीबारी का काम देखते हैं। सच्चिदानंद सिंह ने बाढ़ थाना में दिए आवेदन में विवेका पहलवान तथा अन्य के खिलाफ आवेदन देते हुए फायरिंग का आरोप लगाया है। इनका आरोप है कि अनंत सिंह की खेतीबाड़ी देखने के कारण विवेका पहलवान के लोगों द्वारा इनको टारगेट करके गोली चलाई गई है। सच्चिदानंद सिंह खुद थाने में दो खोखा लेकर उपस्थित हुए थे। बाढ़ थाना पर उपस्थित होकर उन्होंने दो खोखा पुलिस के हवाले किया है, जिसे जब्त कर लिया गया है। बाढ़ पुलिस ने कोई खोखा बरामद नहीं किया है। सच्चिदानंद सिंह का आवेदन बाढ़ थाना ने स्वीकार कर लिया है। वहीं दूसरा आवेदन विवेका पहलवान के समर्थकों द्वारा दिया गया है। विवेका पहलवान की ओर से उनके भतीजे कर्मवीर पहलवान ने एक आवेदन दिया है। आवेदन में भूषण सिंह, छोटन सिंह पर फायरिंग का आरोप लगाया गया है। दोनों पक्षों का आवेदन बाढ़ थाना द्वारा स्वीकार कर लिया गया है तथा दोनों आवेदनों की जांच चल रही है।

वहीं एएसपी लिपि सिंह ने कहा कि बाढ़ थाना को घटना की सत्यता की जांच का आदेश दिया गया है तथा दोषियों को किसी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। दोषी कोई भी हो बाढ़ अनुमंडल क्षेत्र में कानून व्यवस्था हाथ में लेने की इजाजत किसी को नहीं दी जाएगी और जो भी दोषी होंगे उनके खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की जाएगी।