Fri. Aug 23rd, 2019

फिल्म ‘आर्टिकल 15’ के खिलाफ एकजुट हुआ बिहार में ब्राह्मण समाज, आंदोलन के साथ पीआईएल की चेतावनी

पटना।आयुष्मान खुराना की मुख्य भूमिका वाली आर्टिकल 15’हिंदी हिंदी मूवी रिलीज नहीं होने को ले उतरा बिहार ब्राह्मण समाज अनुभव सिन्हा के डायरेक्शन में बनी फिल्म ‘आर्टिकल 15’ को रिलिज को लेकर अखिल भारतीय बहुभाषीय ब्राह्मण महासंघ के युवा परिषद के प्रदेश अध्यक्ष रजनीश कुमार तिवारी ने प्रेस ब्यान जारी कर कहा कि यह फिल्म कथित तौर पर बदायूं रेप और मर्डर केस पर आधारित है। फिल्म 28 जून को रिलीज होने वाली और बिहार  प्रदेश सहित देश के सभी राज्या के ब्राह्मण समुदाय इस फ़िल्म को ले काफी आक्रोश हैं .

श्री तिवारी ने कहा कि इस फिल्म की शूटिंग  लखनऊ और उसके आसपास के इलाकों में हुई है।वहाँ के स्थानीय ब्राह्मणों का कहना है कि फिल्म में घटना की कहानी से छेड़छाड़ की गई है और इरादतन दोषियों को ब्राह्मण जाति का दिखाया गया है जिससे समुदाय खुद को अपमानित मान रहा है उत्तर प्रदेश के ब्राह्मणो में में इसको ले काफी आक्रोश है और वहाँ ब्राह्मण समाज इसके खिलाफ प्रदर्शन कर रहा है  ।

रजनीश तिवारी ने कहा पिछले हफ्ते ही इस फिल्म का ट्रेलर रिलीज किया गया है जिसमें 2 छोटी लड़कियों का रेप कर मर्डर कर दिया जाता है। फिल्म में लड़कियों का परिवार गरीब दिखाया गया है जिनसे जबरन खेतों में मजदूरी कराई जाती है। इस फिल्म के जरिए जाति आधारित भेदभाव का मुद्दा उठाया गया है।

फिल्म के ट्रेलर में यह भी बताया गया है कि क्राइम ‘महंत जी के लड़के’ ने किया है। इसी वजह से ब्राह्मण समुदाय फिल्म से नाराज है। बता दें कि बदायूं मर्डर केस साल 2014 में हुआ था जिसमें आरोपियों के नाम पप्पू यादव, अवधेश यादव, उर्वेश यादव, छत्रपाल यादव और सर्वेश यादव हैं। इनमें छत्रपाल और सर्वेश पुलिसकर्मी थे।

आयुष्मान खुराना की फिल्म ‘आर्टिकल 15’ का ट्रेलर

पर अखिल भारतीय बहुभाषीय ब्राह्मण महासंघ का कहना है कि यह फिल्म बदायूं केस पर आधारित है और दोषियों को ब्राह्मण दिखा दिया है। उनका कहना है कि वह इस मुद्दे के प्रति लोगों को जागरूक कर रहे हैं और इस फिल्म को बिहार में  रिलीज नहीं होने देंगे साथ ही साथ इस फ़िल्म के खिलाफ पटना हाई कोर्ट में पी. आई. एल फ़ाइल करेंगे।

रजनीश तिवारी का कहना है की जब ‘पद्मावत’ के खिलाफ राजपूत करणी सेना विरोध कर सकती है तो बिहार भर में अखिल भारतीय बहुभाषीय ब्राह्मण महासंघ ‘आर्टिकल 15’ का विरोध कर सकता है.

आक्रोश ब्यक्त करने वाले में अखिल भारतीय बहुभाषीय ब्राह्मण महासंघ के आर.एन मिश्रा  अमरेंद्र त्रिपाठी,राघवेन्द्र तिवारी , प्रभाकर चौबे ,सौरभ मिश्रा ,अभय तिवारी ,माधव झा आज़ाद आदि ने आक्रोश ज़ाहिर की है।